यूक्रेन ने देश में की आपातकाल की घोषणा , तीसरे विश्व युद्ध की ओर बढ़ रहे दोनों देश

My Bharat News - Article AP22046436310395

रूस के साथ चल रही जंग का असर यूक्रेन पर तेजी से पड़ रहा है,दोनों देशों के बीच हो रहे युद्ध का आज चौथा दिन है आलम ये है कि, कई जगहों पर बाजारों में लूट मची है,यूक्रेन में खाने-पीने का सामान खत्म हो गया है, वहां फंसे कई भारतीय छात्रों का कहना है कि, बंकरों में भी बैठने की जगह नहीं रही है ऐसे में दोनों देशों के बीच ये जंग अब तीसरे विश्व युद्ध की ओर बढ़ रही है।


रूस के आक्रमण के लगातार बढ़ते खतरे के बीच यूक्रेन ने आपातकाल की घोषणा कर दी है,साथ ही ये भी साफ कर दिया है कि आपातकाल की घोषणा रूस के आगे यूक्रेन के झुकने की निशानी नहीं है, यूक्रेन ने अपने नागरिकों को आगाह कर दिया है कि बस एक महीने में यूक्रेन का हर बाशिंदा हथियार उठाकर युद्ध के लिए तैयार होगा। .वहीं दूसरी तरफ रूस के मंसूबे भी अपने दम से आगे बढ़ रहे हैं, रूस ने पूर्वी यूक्रेन के दो हिस्सों डोनेट्स्क और लुहान्स्क को स्वतंत्र देश के रूप में मान्यता दे दी है, इन दोनों जगहों पर रूसी लोगों की ज्यादा संख्या इस फैसले को मजबूती दे रही है, यही वजह है कि रूस को भी यूक्रेन पर हमला करने के लिए ज्यादा आसान और सेफ रास्ता इन्हीं नए देशों के जरिए नजर आ रहा है, इस फैसले ने दोनों देशों के बीच तनाव को और भी ज्यादा बढ़ा दिया है।

इस फैसले के बाद से ही रूस अलग अलग देशों से कई तरह के प्रतिबंध झेल रहा है, अमेरिका ने वीईबी और रूसी मिलिट्री बैंक के खिलाफ प्रतिबंध लगा दिया है, इसके अलावा अमेरिका ने रूस के कुछ रईस परिवारों और वहां के बड़े उद्योगपतियों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है, जर्मनी और मास्को के बीच होने वाले आकर्षक सौदे पर भी रोक की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जर्मनी ने नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन प्रमाणन की प्रक्रिया को रोकने का काम शुरू कर दिया है, इसमें ब्रिटेन भी पीछे नहीं है, उसने भी रूस के 5 बैंकों और यूरोप के सबसे ज्यादा नेट वर्थ वाले 3 व्यक्तियों पर प्रतिबंध लगा दिया है,उन तीन लोगों की ब्रिटेन में मौजूद संपत्ति फ्रीज होगी और उन्हें ब्रिटेन आने से भी रोक दिया जाएगा।