बिहार विधानसभा परिसर में मिली शराब की बोतलें, सीएम से इस्तीफे की मांग

My Bharat News - Article images

बिहार विधानसभा परिसर से शराब की खाली बोतलें मिली हैं। इससे सनसनी फैल गई। सियासत भी होने लगी है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वीर यादव ने इसको लेकर मुख्यहमंत्री नीतीश कुमार से इस्ती फे की मांग कर दी है। उन्होंeने कहा है कि सीएम के चैंबर से महज सौ मीटर की दूरी पर शराब की बोतलें कैसे मिल गई।


नीतीश की रिएल पिक्चर आई सामने
बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि सीएम के चैंबर से महज सौ मीटर की दूरी पर शराब की बोतलें कैसे मिल गई। जहां बैठे हैं, वहीं शराब की बोतलें मिल रही हैं। सीएम नीतीश को खुद आकर देखना चाहिए। वरना, बाद में वे कहेंगे कि हमने तो देखा ही नहीं। पानी की बोतलें होंगी। तेजस्वीो ने कहा कि यहीं पर सीएम नीतीश कुमार ने शराबबंदी का संकल्पन लिया था। अब तो शराबबंदी का रियल पिक्चवर सामने आ गया है।

विपक्ष को मिला बोलने का मौका
बता दें कि बिहार विधानसभा की पार्किंग एरिया में शराब की खाली बोतलें पड़ी थीं। एक दिन पहले ही सोमवार को विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन मुख्यएमंत्री समेत अन्यल लोगों ने शराबबंदी की शपथ ली थी। ऐसे में विधानसभा परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलना कई सवाल खड़े करता है। वह भी उस स्थिति में जबकि सत्र चल रहा है। सुरक्षा के पुख्ताा इंतजाम हैं। ऐसे में बाइक पार्किंग एरिया में कचरे में शराब की कई खाली बोतलें फेंकी हुई थी।


नीतीश के राज में शराब और अपराध की छूट है
शराब की बोतलें मिलने के बाद राजद के विधायकों के साथ घूम-घूमकर तेजस्‍वी ने शराब की बोतलें परिसर में देखीं। उन्होंंने इसके बाद सीएम नीतीश कुमार पर सीधे निशाना साधा। तेजस्वी यादव ने कहा कि विधानसभा लोकतंत्र का मंदिर है। यहां कल ही शपथ ली गई थी। परिसर के अंदर बोतल मिलना पूरी तरह से सीएम नीतीश कुमार की विफलता है। शपथग्रहण बिल्‍कुल नौटंकी है। यदि प्रशासन के लोग मिले नहीं हैं तो यहां कैसे बोतलें आ गईं। आखिरकार गृह मंत्री कहां सोए हुए हैं। कहा कि जब सीएम की गाड़ी चलती है तो एक किलोमीटर दूर तक गाड़‍ियां रोक दी जाती हैं। लेकिन जहां वे बैठते हैं वहां 50 से 100 मीटर की दूरी में बोतलें मिलती हैं तो क्याो समझा जाए। होम मिनस्ट र तो सीएम खुद हैं। पुलिस भी उन्हीं़ के अंदर है। उन्होंूने कहा कि सरकार कोई जवाब नहीं देगी। कहेगी कि यह विपक्ष की साजिश है। हम न बनावटी हैं न मिलावटी हैं। शराब माफिया के सीएम की तस्वीोर भी हमने देखी हैं। भ्रष्टाकचार, शराब, अपराध की छूट है।