बाढ़ की मार झेल रहे पाकिस्तान में अब महंगाई ने कमर तोड़ी, गेंहू और आटे की कीमत में बढ़ोत्तरी

My Bharat News - Article में महंगाई

पाकिस्तान इन दिनों चौतरफा मार झेल रहा है. भीषण बाढ़ से जो हालत हुई तो हुई अब महंगाई ने भी कमर तोड़ दी है. देश में जारी महंगाई के बीच खबर है कि गेहूं और आटे की कीमतों में 10 से 20 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है. द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की एक रिपोर्ट के अनुसार अक्टूबर में फसल की बुवाई में संभावित देरी के कारण गेहूं और आटे की कीमतों में 10 से 20 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हुई है. इसके साथ ही पाकिस्तान सरकार द्वारा अनाज समर्थन मूल्य को दोगुना कर दिया गया है.

कराची में 125 रुपए प्रति किलो बिक रहा आटा
रिपोर्ट में लोगों और किराना विक्रेताओं का हवाला देते हुए कहा गया है कि कुछ ही दिनों में गेहूं के आटे की कीमत 20 से 25 पाकिस्तानी रुपए (पीकेआर) प्रति किलोग्राम से बढ़कर कराची में 120 से 125 पीकेआर प्रति किलोग्राम हो गई है. ANI के अनुसार शुक्रवार को पाकिस्तान सांख्यिकी ब्यूरो (पीबीएस) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि 15 सितंबर को समाप्त सप्ताह में गेहूं के आटे की कीमत में 7.51 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई. जिससे भाव बढ़कर 106.38 पीकेआर प्रति किलोग्राम हो गई. जो पहले 98.95 पीकेआर थी.

तीन महीने में गेहूं की कीमत में 30 फीसदी की बढ़ोतरी
ठीक इसी तरह गेहूं (अनाज) की कीमत में एक सप्ताह में 14 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई है, जो बढ़कर 88 पीकेआर प्रति किलोग्राम हो गई, ये पिछले सप्ताह 77.42 पीकेआर प्रति किलोग्राम थी. द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार इस्माइल इकबाल सिक्योरिटी हेड ऑफ रिसर्च फहद रउफ ने कहा है कि गेहूं की कीमत ने तीन महीनों में 30 फीसदी की छलांग लगाई है.

अप्रैल 2022 में सत्ता संभालने वाली पीएम शहबाज शरीफ की गठबंधन सरकार कई राजनीतिक और आर्थिक संकटों से जूझ रही है. पाकिस्तान का चालू खाते का घाटा पिछले वित्त वर्ष के दौरान बढ़ते व्यापार घाटे के कारण 17.4 अरब अमेरिकी डॉलर हो गया है.