फर्रुखाबाद में बंदरों का आतंक जोरों पर, 100 से ज्यादा लोगों को काटा

My Bharat News - Article बंदरों का आतंक

फर्रुखाबाद जिले के कमालगंज थाना क्षेत्र में बंदरों के आतंक से गदनपुर तुर्रा ग्राम पंचायत क्षेत्र में कई दिनों से दहशत है। तीन माह में 100 से अधिक लोगों को बंदर काट चुके हैं। ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग के अधिकारी भी सुनवाई नहीं कर रहे हैं।

गदनपुर तुर्रा ग्राम पंचायत में करीब 50 बंदरों के झुंड से ग्रामीण परेशान हैं। झुंड में दो बंदर लोगों पर हमला कर देते हैं। सोमवार सुबह नौ बजे कृष्ण स्वरूप चतुर्वेदी का 20 वर्षीय पुत्र शिवा घर से 50 मीटर दूर खेत पर जा रहा था। इसी बीच बंदर ने हमला कर दिया।

इस हमले में कोहनी के नीचे दो स्थानों पर काट लिया। कृष्ण स्वरूप ने बताया कि वह उसे छिबरामऊ अस्पताल ले गए। वहां से कन्नौज के तिर्वा मेडिकल कॉलेज जाकर दिखाया। उन्होंने पट्टी करके कानपुर सर्जरी कराने ले जाने को कहा, लेकिन पैसा न होने से वह गांव वापस आ गए।

इसी तरह 20 दिन पहले बृजेश के बेटे शिवम के हाथ में भी घाव कर दिया था। उसकी कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में सर्जरी में एक लाख रुपये खर्च हुए। प्रधान संघ के पूर्व संयोजक लल्लन अग्निहोत्री ने प्रशासन से समस्या दूर कराने की मांग की है।

खर्च करे पंचायत, तो भेजे पिंजड़ा
वन विभाग के रेंजर रत्नेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि ग्राम पंचायत ने कोई पहल नहीं की। वह अनुमति देकर बंदर पकड़ने वाली टीम को पिंजड़ा सहित भेजेंगे। खर्चा ग्राम पंचायत को करना होगा।