फर्जी कैंसर और जीवन रक्षक दवा बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश, डॉक्टर, इंजीनियर और MBA करे हुए लोग शामिल

My Bharat News - Article दवाओं का भंडाफोड़

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने नकली दवाई का धंधा करने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। कैंसर की नकली दवाई बेचने वाले गिरोह के गैंग का खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने सात शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

स्पेशल CP (अपराध) रवींद्र सिंह यादव ने कहा कि हमने फर्जी कैंसर और जीवन रक्षक दवा बनाने वाले गिरोह को पकड़ा है। इसमें 7 लोगों की गिरफ़्तारी हुई है. जिसमें डॉक्टर, इंजीनियर, MBA करे हुए लोग शामिल हैं। कुछ लोग फरार हैं जिनको जल्द पकड़ा जाएगा। यह लोग कीमती दवाओं को यह कहकर बेचते थे कि यह भारत में नहीं मिलती।

रवींद्र सिंह यादव ने कहा कि हमने सोनीपत आदि जगहों में फैक्ट्री पकड़ी है। गाज़ियाबाद में एक गोदाम पकड़ा है जिसकी वहीं अलग FIR दर्ज हुई है। यह विभिन्न स्रोतों से दवाओं को बेचते थे। हमने अभी जो खेप पकड़ी है उसकी कीमत 8 करोड़ रुपए है। यह लोग 3-4 साल से ऐसा काम कर रहे थे।

क्राइम ब्रांच के मुताबिक, जांच पड़ताल के दौरान न केवल सात सदस्यों को गिरफ्तार किया है, बल्कि इनकी निशानदेही पर करीब आठ करोड़ रुपये मूल्य की दवाइयां भी जब्त की हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, ये शातिर गिरोह दिल्ली-एनसीआर समेत कई राज्यों में सक्रिय है और नकली दवाइयों की सप्लाई करता है।

पूछताछ के आधार पर जानकारी सामने आ रही है कि इनका गिरोह दिल्ली-एनसीआर के सक्रिय है। इसके साथ ही यूपी और हरियाणा में नकली दवाई बेचने का धंधा करते थे। इनकी निशानदेही पर क्राइम ब्रांच ने आठ करोड़ मूल्य की दवाई जब्त की है।