पंजाब,पूर्व कांग्रेस चीफ सुनील जाखड़ भाजपा में शामिल,नड्डा ने दिलाई सदस्यता

My Bharat News - Article f9s4jhv8 sunil jakhar joins

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड़ड़ा की मौजूदगी मे.कांग्रेस पार्टी के पूर्व नेता सुनील जाखड़ भारतीय जनता पार्टी में शामिल

पंजाब कांग्रेस के पूर्व नेता सुनील जाखड़ गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उन्हें पार्टी की सदस्य्ता दिलाई। गौरतलब है, कि सुनील जाखड़ ने हाल ही में 14 मई को कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दिया था। उनके पार्टी से मनमुटाव की ख़बरें पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 के समय से ही आ रही थी। पंजाब में जब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था और कांग्रेस पार्टी ने चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाने की पेशकश की थी तब सुनील जाखड़ ने खुलकर इस पर नाराजगी जाहिर की थी। हालांकि, उस वक्त पार्टी सांसद राहुल गांधी ने सुनील जाखड़ को मनाने की कोशिश भी की थी।

कांग्रेस को,चिंता शिविर’ की जरूरत

इतना ही ही नहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने अपने इस्तीफे का ऐलान करते समय कांग्रेस पार्टी को नसीहत भी दी थी। जब उन्होंने इस्तीफा दिया उस वक्त कांग्रेस का राजस्थान के उदयपुर में चिंतन शिविर चल रहा था। तब उन्होंने कहा था, कि ‘इस तरीके से चिंतन शिविर लगाने से कुछ नहीं होगा। कांग्रेस का चिंतन शिविर सिर्फ औपचारिकता है। कांग्रेस को ‘चिंता शिविर’ की जरूरत है।’

कांग्रेस पहले ही दो साल के लिए कर चुकी है सस्पेंड

दरअसल, ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी (AICC) के अनुशासनात्मक पैनल ने 26 अप्रैल को सुनील जाखड़ को दो सालों के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया था। कहा जाता है, जाखड़ ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की आलोचना की थी। इससे पार्टी का शीर्ष नेतृत्व खफा था। पार्टी से उनके निलंबन की वजह पंजाब में आम आदमी पार्टी (AAP) से कांग्रेस की बुरी हार के बाद उन्होंने चन्नी को इसके लिए जिम्मेदार बताया था।

यू पी विधानसभा चुनाव में कुल 403 सीटों में से 390 पर कांग्रेस पार्टी को महज कुछ हजार वोट मिले

सुनील जाखड़ ने कहा था, ‘उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कुल 403 सीटों में से 390 पर कांग्रेस पार्टी को महज कुछ हजार वोट मिले। गोवा और उत्तराखंड में सरकार के खिलाफ विरोध के बावजूद कांग्रेस जीत नहीं पाई। मैं मानता हूं कि कांग्रेस को इस पर विचार करने की जरूरत है। इन खामियों के लिए मैं सिर्फ पार्टी आलाकमान को जिम्मेदार नहीं ठहरा रहा। इसमें और भी कई तरह की कमियां रही हैं।’