नए साल पर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा, घर में करें नारियल से जुड़ा ये खास टोटका

My Bharat News - Article से जुड़ा खास टोटका

नया साल आने में बस अब कुछ दिन बाकी रह गए हैं. नए साल को सुख-समृद्धि से भरपूर बनाने के लिए लोग तरह-तरह के उपाय करते हैं. इसमें नारियल का उपाय विशेष लाभकारी होता है. हिंदू धर्म में नारियल बहुत शुभ माना जाता है इसलिए पूजा-पाठ में इसका इस्तेमाल जरूर किया जाता है. मान्यताओं के अनुसार नारियल के पेड़ में साक्षात मां लक्ष्मी निवास करती हैं. वास्तु के अनुसार जिस घर में नारियल का पेड़ होता है उस घर में हमेशा सुख-शांति बनी रहती है. आइए जानते हैं कि नए साल में आपको नारियल का पेड़ क्यों लगाना चाहिए और इससे क्या फायदे मिलते हैं.

आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए
वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आपके नौकरी या व्यापार में अक्सर दिक्कत रहती है तो आपको घर के आंगन में नारियल का पेड़ लगाना चाहिए. नारियल का पेड़ लगाने से घर की आर्थिक स्थिति मजबूत होती है और घर के सदस्यों को कर्ज से मुक्ति मिलती है.सुख और समृद्धि के लिए घर में नारियल का पेड़ लगाना चाहिए. नारियल का इस्तेमाल कई धार्मिक और मांगलिक कार्यों में भी किया जाता हैं. नारियल का पेड़ घर की दक्षिण या पश्चिम दिशा में लगाना शुभ माना जाता है.

नकारात्मकता दूर करता है नारियल
नारियल के उपाय से घर में आई नकारात्मक शक्तियों को भी दूर किया जा सकता है. नारियल पर काजल का टीका लगा इसे घर के हर कोने में ले जाएं और उसके बाद इसे नदी में प्रवाहित कर दें. ऐसा करने से घर से नकारात्मकता दूर होती है और घर के सदस्यों के बीच प्रेम भाव बढ़ता है.

ग्रह दोषों को शांत करता है नारियल
अगर कुंडली में राहु-केतु का दोष है तो उसे भी नारियल के टोटकों से दूर किया जा सकता है. शनिवार के दिन नारियल के दो भाग करके इनमें चीनी भर दें. इसके बाद किसी सुनसान जगह पर ले जाकर इसे जमीन में गाड़ दें. माना जाता है कि जैसे-जैसे जमीन में रहने वाले कीड़े इन्हें खाते हैं वैसे-वैसे ग्रह दोष दूर होने लगते हैं.

नारियल से जुड़ी मान्यता
जीवन में बार-बार परेशानियां आ रही हैं तो नारियल से जुड़ा खास उपाय करना लाभकारी रहता है. पानी वाले नारियल को अपने ऊपर से 21 बार घुमाकर उसे देवस्थान पर जाकर आग में जला दें. कुछ दिनों तक हर मंगलवार या शनिवार को ऐसा करने से जीवन की समस्याएं हमेशा के लिए दूर हो जाती हैं.

यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि माई भारत किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है.