दीवाली पर घर की इस खास जगह पर दीये जरुर जलाएं

My Bharat News - Article

दीपावली के त्यौहार को रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है. दीपावली हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है. इस दिन रात्रि के समय धन की देवी माता लक्ष्मी का विधि विधान से पूजन किया जाता है और घर के प्रत्येक स्थान को स्वच्छ कर वहां दीपक लगाए जाते हैं. ऐसी मानता है कि ऐसा करने से धन की देवी लक्ष्मी प्रसन्न होकर घर से आर्थिक तंगी और दरिद्रता का नाश करती हैं.

भारतवर्ष के प्रत्येक राज्य में दिए लगाने की अलग-अलग परंपराएं और मान्यताएं हैं. कई राज्यों में सम संख्या में दिए लगाए जाते हैं तो कई जगहों पर विषम संख्या में भी दीपक लगाए जाते हैं.

इन 5 मुख्य जगहों पर जलाएं दीये
-दिवाली से पहले धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी के साथ यमराज के लिए भी घर के चारों ओर दीप जलाकर उनकी पूजा की जाती है. मान्यता है कि धनतेरस की शाम को मुख्य द्वार पर और घर के अंदर अलग-अलग जगहों पर दीप जलाने चाहिए.

-धनतेरस के बाद नरक चतुर्दशी मतलब छोटी दीवाली मनाई जाती है. मान्यताओं के अनुसार इस दिन बहुत से लोग घर में 14 दीपक जलाते हैं लेकिन आप चाहे तो 5 दीपक भी जला सकते हैं.

-दिवाली के दिन माता लक्ष्मी भगवान गणेश के साथ घर के आभूषणों आदि का पूजन किया जाता है. इस दिन 26 दीपों के बीच एक तेल का दीपक रखकर उसके चारों बातियों को प्रज्वलित करना चाहिए. इस दीपमाला का पूजन करके इन दीपों को घर के अलग-अलग स्थानों पर रखें. ध्यान रखें कि 4, 7, 9 बत्ती वाला दीपक रातभर जलता रहे.