तेल के इन उपायों से होगी सभी मनोकामना पूरी, जानिए आसान उपाय

तेल एक ऐसा खाद्य पदार्थ है, जिसका इस्तेमाल हम सभी के घर में सब्जी बनाने या कोई भी चीज को तलने के लिए किया जाता है. तेल कई प्रकार के होते हैं, जिन्हें हम खाने के साथ-साथ अन्य उपयोग में भी ला सकते हैं. सोयाबीन का तेल, सूरजमुखी का तेल, मूंगफली का तेल, चमेली का तेल, नारियल का तेल, सरसों का तेल आदि. खाने के अलावा तेल का उपयोग भगवान के समक्ष दीपक जलाने में भी किया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इन तेलों का उपयोग हम जीवन में आ रही अनेक तरह की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए भी कर सकते हैं. भोपाल के रहने वाले ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा हमें तेल के उपायों के बारे में बता रहे हैं. आइए जानते हैं.

चमेली के तेल का उपाय
यदि कोई व्यक्ति अपनी हर तरह की मनोकामना पूरी करना चाहता है, तो हर मंगलवार या शनिवार के दिन चमेली का तेल बजरंगबली पर अर्पित करें. इसके बाद पुष्प माला चढ़ाए और धूप दीप दिखाकर पूजा करे. ध्यान रहे कि चमेली के तेल का दीपक ना जलाए. इस तेल को हनुमान जी पर अर्पित किया जाता है.


सरसों के तेल का उपाय
यदि आप शनि देव की कृपा पाना चाहते हैं तो शनिवार के दिन शाम के समय एक कटोरी सरसों का तेल लें और उसमें अपना चेहरा देखकर इस तेल को शनि मंदिर में रख दें. इसके अलावा यदि आप अपनी हर मनोकामना पूरी करना चाहते हैं तो नियमित रूप से लगातार 41 दिन तक पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दिया जलाएं. ये उपाय बेहद कारगर सिद्ध होता है.

तिल के तेल का उपाय
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यदि आप 41 दिन तक नियमित रूप से पीपल के पेड़ के नीचे तिल के तेल का दीपक जलाएंगे, तो आपके असाध्य रोग धीरे-धीरे करके खत्म हो जाएंगे और आप एकदम स्वस्थ हो जाएंगे. मान्यताओं के अनुसार, कई तरह की साधना और सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए पीपल के पेड़ के नीचे तिल के तेल का दीपक जलाया जाता है.

शारीरिक कष्ट दूर करने का उपाय
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनिवार के दिन सवा किलो आलू और बैगन मिक्स करके इनकी सब्जी सरसों के तेल में बनाकर लगभग उतनी ही पूरीयां सरसों के तेल में तलकर किसी दृष्टिहीन, अपाहिज या गरीब व्यक्ति को भोजन कराएं. ये उपाय कम से कम तीन शनिवार करने से आपके कष्ट दूर हो जाएंगे.


दुर्भाग्य से पीछा छुड़ाने का उपाय
यदि आप अपने दुर्भाग्य से पीछा छुड़ाना चाहते हैं तो इसके लिए सरसों के तेल में सिके हुए गेहूं का आटा लें. उसमें पुराना गुड़ मिलाकर सात पुए बना लें. अब 7 आक के फूल, आटे से तैयार सरसों के तेल के दीपक, सिंदूर, पत्तल या अरंडी के पत्ते पर रखकर शनिवार की रात किसी भी चौराहे पर रख आएं.

My Bharat News - Article image 2