30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021

चिपको आंदोलन के प्रणेता सुन्दरलाल बहुगुणा का ऋषिकेश एम्स में कोरोना से निधन

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

पर्यावरण को बचाने के लिए प्रसिद्ध चिपको आंदोलन की देशभर में शुरूआत करने वाले सुंदरलाल बहुगुणा का निधन हो गया है. वे कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ऋषिकेश एम्स हॉस्पिटल में भर्ती थे. ऋषिकेश एम्स प्रशासन ने उनके निधन की पुष्टि की है.

My Bharat News - Article 0जत
93 वर्ष की उम्र में सुंदर लाल बहुगुणा का हुआ निधन

सुंदरलाल बहुगुणा 93 वर्ष के थे, कोरोना से संक्रमित होने के बाद उन्हें 8 मई को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था. ऑक्सीजन लेवल कम होने के कारण उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई थी. एम्स के चिकित्सकों की पूरी कोशिश के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका. उनके परिवार में पत्नी विमला, दो पुत्र और एक पुत्री हैं.

My Bharat News - Article 1्
ऋषिकेश के एम्स अस्पताल में सुंदरलाल बहुगुणा ने ली अंतिम सांस

9 जनवरी, 1927 को उत्तराखंड के टिहरी में जन्मे बहुगुणा को चिपको आंदोलन का प्रणेता माना जाता है .उन्होंने 70 के दशक में गौरा देवी और कई अन्य लोगों के साथ मिलकर जंगल बचाने के लिए चिपको आंदोलन की शुरूआत की थी.

My Bharat News - Article 1ं्
9 जनवरी 1927 को उत्तराखंड के टिहरी में हुआ था जन्म

पद्मविभूषण तथा कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित बहुगुणा ने टिहरी बांध निर्माण का भी बढ़-चढ़ कर विरोध किया जिसके लिए उन्होंने 84 दिनों तक लंबा अनशन भी रखा था. एक बार उन्होंने विरोध स्वरूप अपना सिर भी मुंडवा लिया था.

My Bharat News - Article 3्न
तत्कालीन देश की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने सुंदर लाल बहुगुणा को दिया था पद्मविभूषण पुरस्कार

टिहरी बांध के निर्माण के आखिरी चरण तक उनका विरोध जारी रहा, जिसमें उनका अपना घर भी टिहरी बांध के जलाशय में डूब गया था. टिहरी राजशाही का भी उन्होंने कड़ा विरोध किया जिसके लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा.

My Bharat News - Article 0रक 2
देश के कई हिस्सों मे पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देशय से कर चुके हैं कई पदयात्राएं

सुंदर लाल बहुगुणा हिमालय में होटलों के बनने और लक्जरी टूरिज्म के भी मुख्य विरोधी थे. महात्मा गांधी के अनुयायी रहे बहुगुणा ने हिमालय और पर्यावरण संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में कई बार पदयात्राएं की थी.

My Bharat News - Article 3ोे
टिहरी राजशाही के विरोध के दौरान जाना पड़ा था जेल
- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...