चार धाम यात्रा की शुरुआत, इतने यात्री हर दिन करेंगे दर्शन

धार धाम यात्रा
चार धाम यात्रा की शुरुआत तीन मई से हो रही है. उसकी तैयारियों को लेकर स्थानिय प्रशासन के अलावा राज्य सरकार भी पूरे जोर शोर से लगी हुई है. इस दौरान अब उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के लिए यात्रियों की संख्या निर्धारित कर दी गई है. ये यात्रा की व्यवस्था पहले 45 दिन के लिए बनाई गई है.

चार धाम यात्रा की शुरुआत तीन मई से हो रही है. उसकी तैयारियों को लेकर स्थानिय प्रशासन के अलावा राज्य सरकार भी पूरे जोर शोर से लगी हुई है. इस दौरान अब उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के लिए यात्रियों की संख्या निर्धारित कर दी गई है. ये यात्रा की व्यवस्था पहले 45 दिन के लिए बनाई गई है.

क्या है आदेश?
चार धाम यात्रा के दौरान यात्रियों की संख्या मंदिर समिति द्वारा निर्धारित कर दी गई है. मंदिर समिति द्वारा निर्धारित की गई यात्रियों की संख्या यात्रा के पहले 45 दिनों के लिए है. बद्रीनाथ धाम के दर्शन के लिए हर दिन 15000 यात्री दर्शन करेंगे. वहीं केदारनाथ के दर्शन के लिए हर दिन 12 हजार यात्री दर्शन करेंगे. इसके अलावा गंगोत्री में 7000 यात्री 1 दिन में कर दर्शन करेंगे. जबकि एक दिन में यमुनोत्री में चार हजार श्रद्धालु ही दर्शन कर सकेंगे. शासन की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है.

कब शुरू होगी यात्रा?
कोरोना की वजह से पिछले दो सालों से चार धाम की यात्रा का संचालन नहीं हो पा रहा था लेकिन इस बार पूरे जोरो-शोरों के साथ चार धाम यात्री की तैयारी की जा रही है. 3 मई को अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ यात्रा आरंभ हो जाएगी. गौरतलब है कि इस साल चार धाम यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद जताई जा रही है. ऐसे में सरकार और प्रशासन द्वारा पुख्ता बंदोबस्त भी किए गए हैं. श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो इसके लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं की जा रही हैं. बता दें कि कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए चारधाम यात्रा के लिए आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य कर दिया गया है.