गाजियाबाद में सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान दर्दनाक हादसा, साथी मजदूर को बचाने में दूसरे की भी गई जान

My Bharat News - Article टैंक

गाजियाबाद में सेप्टिक टैंक की सफाई करने के लिए उतरे दो मजदूरों की दम घुटने से दर्दनाक मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। वहीं घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

पहले एक बेहोश हुआ, बचाने में दूसरा भी गिरा
घटना गाजियाबाद के खोड़ा इलाके की है। पुलिस ने बताया कि पहले एक श्रमिक सेप्टिक टैंक में उतरा। जहरीली गैस की चपेट में आने से वह बेहोश हो गया। इसके बाद उसे बचाने के लिए दूसरा कर्मचारी टैंक में उतरा तो वह भी बेहोश होकर टैंक में गिर गया। कुछ ही देर में दोनों की मौत हो गई।

खोड़ा में रह कर मजदूरी करते थे दोनों
गाजियाबाद पुलिस के मुताबिक मृतकों की पहचान बुलंदशहर निवासी सुनील सिंह (32) और सुनील कुमार (38) के रूप में हुई है। दोनों खोड़ा में किराए पर रह रहे थे। दिहाड़ी मजदूरी करके अपने परिवार का पेट पाल रहे थे। खोड़ा थाना प्रभारी ने बताया कि राजबली पटेल ने अपने घर में टैंक को साफ करने के लिए दोनों मजदूरों को बुलाया था।

अस्पताल ले गए, लेकिन बच नहीं पाए
घटना के बाद इलाके में कोहराम मच गया। पुलिस ने दोनों को टैंक से बाहर निकलवा कर दिल्ली के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। खोड़ा के एक स्थानीय निवासी ने बताया कि वह अपने घर के सामने खड़ा था, तभी दोनों मजदूर सफाई करने के लिए सेप्टिक टैंक में उतरे थे।

अभी नहीं आई कोई तहरीरः पुलिस
जानकारी के मुताबिक टैंक में उतरने से पहले दोनों मजदूरों ने मास्क नहीं लगाया था। वहीं थाना पुलिस ने बताया कि दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है। थाना पुलिस का कहना है कि मृतकों के परिजनों की ओर से अभी तक कोई तहरीर नहीं दी गई है।