औरैया में BSA रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, रिटायर शिक्षक से मांगी थी रिश्वत

My Bharat News - Article बीएसए रिश्वत लेते गिरफ्तार

औरैया जिले में सेवानिवृत्त शिक्षक से एरियर भुगतान के बीएसए विपिन कुमार तिवारी ने 10 प्रतिशत रिश्वत मांगी थी। शुक्रवार को शाम छह बजे शिक्षक को दफ्तर बुलाया। इसी बीच कानपुर से पहुंची विजिलेंस की टीम ने बीएसए को 50 हजार रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ पकड़ लिया।

बीएसए को दफ्तर से पकड़ कर कोतवाली लाया गया। जहां से कागजी कार्रवाई के बाद टीम उन्हें अपने साथ कानपुर ले गई है। सहायल क्षेत्र के बगियापुर के ऐडिड महर्षि दयानंद उच्च माध्यमिक विद्यालय में शिक्षक रहे राधा चरन का सितंबर 2012 से अप्रैल 2018 तक का एरियर का करीब 50 लाख रुपया बाकी था।

भुगतान के लिए 10 प्रतिशत की मांग
बकाया एरियर भुगतान के लिए बीएसए ने शिक्षक से 10 प्रतिशत की मांग की थी। सूत्रों के मुताबिक विद्यालय का कोई विवाद कोर्ट में चल रहा था। इसमें छह साल तक मामला कोर्ट में चलता रहा। शिक्षक 2020 में सेवानिवृत्त हुआ था। तब से लगातार बकाया भुगतान को लेकर बीएसए कार्यालय के चक्कर लगा रहे थे।

भुगतान न होने पर शिक्षक ने कोर्ट की शरण ली थी, जिसमें फरवरी 2022 में कोर्ट से आदेश भी हुआ था। रुपये के लेनदेन न हो पाने के चलते शिक्षक का भुगतान नहीं किया जा रहा था। इसी सिलसिले में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने भुगतान करने के नाम पर कुल भुगतान का 10 प्रतिशत रुपये की मांग की थी।

इसी मामले में बीएसए ने शिक्षक को शुक्रवार शाम छह बजे के बाद दफ्तर बुलाया था। इसमें शिक्षक ने पहले से विजिलेंस कानपुर को जानकारी दे रखी थी। इसको लेकर अलर्ट हुई टीम शाम को औरैया पहुंची। कलेक्ट्रेट से दो कर्मचारियों को साथ लेने के बाद शाम छह बजे टीम बीएसए दफ्तर जा पहुंची।

पहले शिक्षक को रुपये लेकर भेजा गया। जैसे ही शिक्षक ने दफ्तर में बैठे बीएसए को रुपये दिए, उसी समय टीम ने उन्हें 50 हजार रुपये के साथ रंगे हाथ पकड़ लिया। इस संबंध में सीओ सिटी प्रदीप कुमार ने बताया कि बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ विजिलेंस टीम रिपोर्ट दर्ज करने को लेकर कागजी कार्रवाई कर रही है।


बीएसए को पकड़ने के लिए टीम ने किया तीन घंटे इंतजार
विजिलेंस टीम के हत्थे चढ़े रिश्वतखोर बेसिक शिक्षा अधिकारी विपिन कुमार तिवारी को अचानक निरीक्षण पर चले जाने के कारण पकड़ने के लिए विजीलेंस टीम को तीन घंटे इंतजार करना पड़ा। विपिन कुमार ने जून 2022 में राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद से स्थानांतरित होकर औरैया बीएसए का चार्ज संभाला था।

बीएसए ने राधाचरन को रिश्वत लेने के लिए दोपहर दो बजे बुलाया था। उनकी सूचना पर विजिलेंस टीम भी औरैया समय पर पहुंच गई थी, लेकिन अचानक बीएसए एडी बेसिक के साथ अयाना में निरीक्षण करने चले गए। तीन घंटे बाद लौटने पर विजिलेंस टीम दोबारा सक्रिय हुई और बीएसए को रंगे हाथों धर दबोचा।