इंद्र को शचि ने बांधा था पहली बार राखी, रिश्ते में नहीं थे भाई-बहन!

साल 2022 में रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्ते और 12 अगस्तन को मनाया जा रहा है. रक्षाबंधन को बहनें भाई की कलाई पर राखी बांधती है. राखी को रक्षा सूत्र भी कहा जाता है. भले ही यह त्योेहार भाई-बहन के रिश्तेअ को समर्पित है लेकिन पहली बार रक्षा सूत्र बहन ने भाई को नहीं बल्कि पत्नीै ने अपने पति को बांधा था. इस बारे में हिंदू धर्म-पुराणों में रोचक कहानी मिलती है.

इंद्र को उसकी पत्नीा ने बांधा था पहली बार रक्षा सूत्र
पौराणिक कथाओं के अनुसार पहली बार रक्षा सूत्र इंद्र को उसकी पत्नी शचि ने बांधा था. दरअसल, एक बार देवताओं और दानवों के बीच भयंकर युद्ध हो रहा था. दानव, देवताओं पर भारी पड़ रहे थे और डरकर देवताओं की सेना भागने लगी. देवताओं के प्राण संकट में आ गए, तब इंद्र की पत्नीर शचि देवगुरु बृहस्पंति के पास गई और उनसे मदद मांगी. तब देवगुरु ने कहा, मैं मंत्रों अभिमंत्रित करके एक रक्षा सूत्र तैयार कर देता हूं, उसे तुम श्रावणी पूर्णिमा के दिन देवराज इंद्र की कलाई में बांध देना. यह रक्षा सूत्र न केवल उनकी रक्षा करेगा बल्कि युद्ध में विजय भी दिलाएगा. इसके बाद शचि ने ऐसा ही किया और देवता युद्ध में जीत गए. इस तरह पहला रक्षा सूत्र पत्नीस ने पति को बांधा था.

द्रौपदी ने बांधा था श्रीकृष्ण को अपने वस्त्र का टुकड़ा
रक्षाबंधन की एक और ऐसी ही कथा प्रचलित है जो पांडवों की पत्नीय द्रौपदी और भगवान कृष्ण् से जुड़ी है. इस कथा के मुताबिक जब पांडवों ने राजसूय यज्ञ में अग्रपूजा के लिए भगवान श्रीकृष्ण को चुना तो राजा शिशुपाल क्रोधित हो गया. वह भगवान श्रीकृष्ण् को अपशब्दे कहने लगा. उसकी मां को भगवान श्रीकृष्ण् ने वचन दिया था कि वे शिशुपाल की 100 गलतियां माफ कर देंगे लेकिन यह 101 वीं गलती थी. लिहाजा श्रीकृष्ण‍ ने अपने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल का वध कर दिया. इस दौरान भगवान कृष्णि को भी उंगली में चोट लग गई, तब द्रौपदी ने अपनी साड़ी का टुकड़ा फाड़कर भगवान श्रीकृष्ण की उंगली पर बांधा था. तभी से भगवान ने द्रौपदी को अपनी बहन माना और जब हस्तिनापुर की राजसभा में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा था, तो उसकी रक्षा भी की थी.

My Bharat News - Article image 45
राखी